सोमवार, 21 सितंबर 2009

ईद का पर्व मंगलमय हो

'ईद का पर्व मंगलमय हो' - मैंने सतीश सक्सेना के ब्लॉग 'मेरे गीत' में ईद पर लिखे लेख पर यही टिप्पणि दी है। सामान्यतः आशा की जाती है कि लोग ईद की मुबारकबाद दें और नवरात्र तथा विजयादशमी पर शुभकामनाएं भेजें। शुभकामना एक हिन्दी शब्द है और मुबारक उर्दू। इस तरह हम हिन्दी को हिन्दुओं और उर्दू को मुसलामानों के त्योहारों से जोड़ने की कोशिश कर रहे होते हैं, जो कि सरासर ग़लत है। यह साम्प्रदायिकता का ही एक नमूना है। हम हिन्दीभाषी हैं और अपनी शुभकामनाएं हिन्दी में प्रेषित करें तो कुछ भी ग़लत नहीं करते.यहाँ 'मुबारक'शब्द इस चर्चा का एक बहाना है।यह शब्द तो हिन्दी में घुल मिल गया है।मैं उस मानसिकता का विरोध करना चाहता हूँ जो हिन्दी को हिन्दुओं और उर्दू को मुसलमानों से जोड़ती है.यही बात संस्कृत को ले कर भी है। संस्कृत में कही बात हिन्दुओं से सम्बंधित मान ली जाती है। यहाँ मैं फारसी का जिक्र इस लिए नहीं कर रहा हूँ, क्योंकि संस्कृत हमारे देश की भाषा है और हमारा सरोकार फारसी के मुकाबले संस्कृत से बहुत अधिक है।

हमें भाषा को भाषा ही रहने देना चाहिए। उसे धर्म से जोड़ने की कोशिश नहीं करनी चाहिए।

22 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत अच्छा लिखा है, दोनों भाषाएँ हमारी हैं, ईद की शुभकामनायें और नवरात्रि पर मुबारकबाद स्वीकारें भाई जी !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. धन्यवाद आपको भी नवरात्र पर्व और ईद की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  3. भाई हमारी तरफ़ से ईद की मुबारकवाद, ओर नवरात्रो की शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  4. "हमें भाषा को भाषा ही रहने देना चाहिए। उसे धर्म से जोड़ने की कोशिश नहीं करनी चाहिए।"

    अनुसरण करने योग्य बात.

    पर्वों के इस मौसम में यथोचित शुभकामनाएं.

    चन्द्र मोहन गुप्त
    जयपुर
    www.cmgupta.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. भाषा विचारों को शब्द प्रदान
    करने का एक माध्यम भर है
    इसीलिए इसे किसी धरम
    या छेत्र से जोड़ना उचित
    नहीं होगा इसीलिए पाण्डेय जी
    झल्ले की बधाई+मुबारक

    उत्तर देंहटाएं
  6. अच्छी चर्चा छेड़ी है आपने ----पर अभी मैं सिर्फ़ आपको ईद और नवरात्र दोनों की मंगलकामनायें भेज रहा हूं।
    हेमन्त कुमार

    उत्तर देंहटाएं
  7. बिलकुल सही है आपका कहना और करना भी !

    उत्तर देंहटाएं
  8. हेम जी
    सादर वन्दे !
    बहुत ही विचारणीय पोस्ट आपने लिखी है,
    बधाई ,
    रत्नेश त्रिपाठी

    उत्तर देंहटाएं
  9. हमें भाषा को भाषा ही रहने देना चाहिए। उसे धर्म से जोड़ने की कोशिश नहीं करनी चाहिए।

    Bahut pate ki baat hai.
    Eid ki mubarakbad.

    उत्तर देंहटाएं
  10. धर्म और भाषा का क्या सम्बन्ध ? दक्षिण के मुस्लिम ,बंगाल के मुस्लिम उर्दू कहाँ बोलते हैं ? रशिया के मेरे एक मित्र थे अंसारुद्देन इब्राहिमोव यह नाम भी देखिये उन्हे उर्दू नही आती थी । सो यह प्रश्न है ही नही ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. सहमत-भाषा को भाषा ही रहने देना चाहिए.

    ईद एवं नवरात्रे की शभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  12. आदरणीय हेम जी,

    एक सार्थक पहल की बात की है आपने, कि भाषा हमारे विचारों के संप्रेषित कर एक दूसरे से जोड़ने की बजाय अपने उद्देश्य से विपरीत हमें बाँट रही है। और हमारे कतिपय राजनैतिज्ञ उसे अपने फायदे के लिये ब ही हवा दे रहे हैं।

    सटीक बात कही है, हम आपके साथ हैं।

    सादर,

    मुकेश कुमार तिवारी

    उत्तर देंहटाएं
  13. AAPKO BHI ED AUR NAVRAATRI KI BAHOOT BAHOOT BADHAAI ..... AAPKI BAAT SAHI HAI KISI BHI PARV KO BHAASHA, SANKEERNTA AUR VIVAAD SE PARE RAKHNA CHAHIYE .....

    उत्तर देंहटाएं
  14. एक इण्ट्रा-इस्लामिक भाईचारा है, जिसने बहुतों को इस्लाम की तरफ आकर्षित किया (तलवार की कट्टरता के इतर)। वह भाईचारा इण्टर-इस्लामिक भाईचारे में बदल जाये तो आनन्द ही आनन्द।
    पर आपके सोचने से आनन्द आता है क्या?

    उत्तर देंहटाएं
  15. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  16. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  17. हमेशा की तरह एक विचारणीय मुद्दा सामने लाये हैं आप| विचारों से पूर्ण सहमति है|

    उत्तर देंहटाएं
  18. विचारणीय पोस्ट में चर्चा के अच्छे मुद्दे को उठाया है. आपकी बात तर्कसंगत और काफी उचित है,

    दशहरे की हार्दिक शुभकामनाएं.

    चन्द्र मोहन गुप्त
    जयपुर
    www.cmgupta.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  19. आपको और आपके परिवार को दीपावली की मंगल कामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं